शिक्षा के अधिकार के उल्लंघन के मामले में नोएडा के 33 निजी स्कूलों को नोटिस जारी किया


नोएडा। शिक्षा के अधिकार (RTE) अधिनियम के कथित उल्लंघन के मामले में गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन द्वारा नोएडा के 33 नामी और प्रतिष्ठित निजी स्कूलों को नोटिस जारी किया गया है।

गौतमबुद्धनगर के जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. ने कहा कि बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) ने 33 स्कूलों को नोटिस जारी किया है, जिन्होंने आर्थिक रूप से कमजोर (ईडब्ल्यूएस) वर्ग के बच्चों के लिए आरक्षित सीटों पर प्रावधान का कथित रूप से उल्लंघन किया है। 

डीएम ने आगे कहा कि प्रशासन को शिकायतें मिली थीं कि ये स्कूल गरीब और सामाजिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए कोटा पर कानून में प्रावधानों का दुरुपयोग कर रहे हैं और उन्हें जवाब देने के लिए कहा गया है।

उन्होंने कहा कि स्कूलों की ओर से जवाब मिलने के बाद जांच शुरू की जाएगी और आरटीई के तहत बच्चों को भी उन स्कूलों में प्रवेश दिया जाएगा। 

गौतमबुद्ध नगर के जिन कई नामी प्रतिष्ठित निजी स्कूलों को नोटिस जारी किया गया है उनमें- लोटस वैली इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-126, उत्तराखंड पब्लिक स्कूल, डीपीएस स्कूल सेक्टर-30 नोएडा, विश्व भारती पब्लिक स्कूल ग्रेटर नोएडा, रेयान इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर टेक जोन 4, सेंट जॉन्स स्कूल ग्रेटर नोएडा वेस्ट, एस्टर पब्लिक स्कूल, इंद्रप्रस्थ ग्लोबल स्कूल नोएडा, स्टेप बाय स्टेप स्कूल सेक्टर-132, मयूर स्कूल नोएडा, मिलेनियम स्कूल सेक्टर-119, ग्लोबल इंडियन इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-71 शामिल हैं। 

इस लिस्ट में राघव ग्लोबल स्कूल सरफाबाद, मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-46, फ्लोरेंस इंटरनेशनल स्कूल ग्रेटर नोएडा, धर्मा पब्लिक स्कूल सेक्टर-22, डीएसआर मॉडर्न स्कूल चौड़ा सेक्टर-22, कोठारी इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-50, रामाज्ञा स्कूल दादरी, रामाज्ञा स्कूल सेक्टर-50, सैफायर इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-70, जेएसएस पब्लिक स्कूल सेक्टर-61, जेबीएम ग्लोबल स्कूल सेक्टर-132, मैरीगोल्ड पब्लिक स्कूल सेक्टर-20, एपीजे स्कूल फिल्म सिटी नोएडा, दिल्ली वर्ल्ड पब्लिक स्कूल ग्रेटर नोएडा, संसार द वर्ल्ड एकेडमी ग्रेटर नोएडा, ग्रेट कोलंबस स्कूल छपरौली, जेपी पब्लिक स्कूल नोएडा, सनराइज पब्लिक स्कूल छपरौली और विश्व भारती स्कूल नोएडा भी शामिल हैं।

menu
menu