सीबीएसई ने लॉन्च किया 'रीडिंग मिशन' 2021-23, छात्रों में रीडिंग लिटरेसी को प्रमोट करने के लिए पहल

कोरोना के कारण बच्चों के पढ़ने के तरीके पर काफी  बुरा प्रभाव पड़ा है। इसी क्रम में किए गए सर्वे में यह पाया गया की लगभग 85 फीसद छात्र शुद्ध पढ़ने में असमर्थ थे। इसीलिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE)  ने छात्रों में रीडिंग लिटरेसी को प्रमोट करने के लिए 'रीडिंग मिशन' 2021-23 शुरू किया है। इसको आज आज दोपहर 3 बजे लॉन्च किया गया। सीबीएसई के जारी किए गए बयान के अनुसार, "सीबीएसई रीडिंग मिशन 2021-23, छात्रों को पढ़ने और बुक्स के साथ एक्टिवली संलग्न करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए दो साल की पहल है। सीबीएसई के अध्यक्ष मनोज आहूजा ने आज दोपहर 3 बजे मिशन का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में स्कूलों में पढ़ने की संस्कृति पर शिक्षकों का वेबिनार भी शामिल हुआ।

इसके तहत 25 हजार से ज्यादा मान्यता प्राप्त स्कूलों को हिंदी और अंग्रेजी दोनों में क्वालिटी-रीडिंग मटेरियल प्रदान किया जाएगा। यह मैटेरियल कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों के लिए उपयुक्त होगा। इस रीडिंग मिशन 2021-23 छात्रों को किताबें पढ़ने और समझ के साथ पढ़ने की उनकी महत्वपूर्ण क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करेगा। 

इस पहल को राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत लागू किया जा रहा है।  सीबीएसई समृद्ध गतिविधियों का भी संचालन करेगा जो छात्रों को उनके लैंग्वेज स्किल का निर्माण करने में मदद करेगा। सीबीएसई ने इस मिशन को शुरू करने के लिए प्रथम बुक्स स्टोरी वीवर और सेंट्रल स्क्वायर फाउंडेशन के साथ साझेदारी की है।

menu
menu